हिंदी

प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियां (AUM)

परिभाषा

प्रबंधन के तहत परिसंपत्तियाँ (AUM) उन निवेशों के कुल बाजार मूल्य को दर्शाती हैं जिन्हें एक वित्तीय संस्थान अपने ग्राहकों की ओर से प्रबंधित करता है। AUM में निवेशकों से जुटाई गई सारी पूंजी, निवेश से होने वाली आय और सलाहकारों और पोर्टफोलियो प्रबंधकों द्वारा प्रबंधित कोई भी वित्तीय परिसंपत्तियाँ शामिल होती हैं। यह आंकड़ा एक फंड या निवेश फर्म के आकार और सफलता को मापने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक महत्वपूर्ण मीट्रिक है।

ओम का महत्व

  • शुल्क गणना: निवेश सेवाओं के लिए प्रबंधन शुल्क की गणना अक्सर AUM के प्रतिशत के रूप में की जाती है। उच्च AUM आमतौर पर प्रबंधन शुल्क के माध्यम से फर्म के लिए उच्च राजस्व में तब्दील हो जाता है।

  • निवेशक आकर्षण: उच्च एयूएम वाली फर्मों को अक्सर अधिक विश्वसनीय और सफल माना जाता है, जो सिद्ध विशेषज्ञता की तलाश में अधिक निवेशकों को आकर्षित करती हैं।

  • प्रदर्शन माप: हालांकि एयूएम स्वयं प्रदर्शन का प्रत्यक्ष संकेतक नहीं है, लेकिन एयूएम में परिवर्तन निवेशक की भावना और फंड की प्रबंधन रणनीति की प्रभावशीलता को प्रतिबिंबित कर सकता है।

एयूएम को प्रभावित करने वाले कारक

  • बाजार प्रदर्शन: बाजार में उतार-चढ़ाव प्रबंधन के तहत निवेश के मूल्य को प्रभावित करते हैं, जिसका सीधा असर एयूएम पर पड़ता है।

  • ग्राहक प्रवाह: शुद्ध अंतर्वाह (नए निवेश में से निकासी घटाकर) एयूएम को बढ़ा सकता है, जबकि शुद्ध बहिर्वाह इसे घटाता है।

  • निवेश रणनीति: प्रबंधकों द्वारा कार्यान्वित निवेश रणनीति का प्रदर्शन भी एयूएम की वृद्धि या कमी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

निष्कर्ष

किसी वित्तीय संस्थान के पैमाने और क्षमताओं का आकलन करने वाले निवेशकों और विश्लेषकों के लिए AUM को समझना महत्वपूर्ण है। यह न केवल ग्राहकों द्वारा फर्म में रखे गए भरोसे को दर्शाता है, बल्कि फर्म की अपनी परिसंपत्ति आधार को प्रभावी ढंग से प्रबंधित करने और बढ़ाने की क्षमता को भी दर्शाता है।